Google+ Badge

Monday, October 24, 2016

* एक मुलाक़ात *


कल जब शिवानी शर्मा  ने फ़ोन पर शाम का कार्यक्रम बताया ,दिवाली के काम दबाव के बावज़ूद मैं ऑफिस को गच्चा दे चल दी। ३०-३२ साल पीछे से 'चार लाइनें' सुनाई पड़ीं। पापा ने कोई कैसिट लगा रखी थी। पापा-मम्मी और बचपन की याद चाशनी सा। ...
शहर से कोई २५ km दूर जब हम गंतव्य पर पहुंचे पता चला रात वहाँ 'कवी सम्मलेन ' भी होगा। पिक्चर से तो आपने पहचान ही लिया होगा ! कमरा नम्बर १०६ के बैठक ही में हमें सीधे जाने का मौका मिला। फिर तो हमारी जिज्ञासा और हास्य कवी सुरेंद्र शर्मा जी के सरलता से जो बातचीत का सिलसिला शुरू हुआ तो पूरे दो घंटे निकल गए।
उन्होंने कई राष्ट्रीय अंतरराष्ट्रीय कवियों के गीत , कविताओं के माध्यम से समाज की विसंगतिया व् जीवन जीने के सलीके के बारे में बताया। हम तीनों एक दुसरे के परिवार व् जिंदगी के बारे में भी बात की। ऐसा लग ही नहीं रहा था कि हम ख्यातनामी हस्ती से मुलाकात करने आये हैं। लग रहा था हम तीनों बतियाने बैठे हैं।
बहुत भुलक्कड़ हूँ। कुछ याद नहीं रहेगा - चार लाइनें , कितने ही नाम , कितने ही प्रसंग। ... हाथ बरबस ही फ़ोन की ओर बढ़ गया कि कुछ नोट कर लूँ। मगर फिर रंग में भंग पड़ जाता। मैं उन पलों जी लेना चाहती थी। तभी चाय आ गयी।
" कितनी शक्कर लेंगे सर ?"
"एक "
एक सेलिब्रिटी के लिए चाय बनाना मुझे हमेशा याद रहेगा।
"जी , आज कल 'राग-दरबारी' पढ़ रही हूँ।" फिर तो बात शरत चंद्र चटोपाध्याय से लेकर शिवानी के उपन्यासों की महिला पात्रों के चित्रण तो शरद जोशी और फिर राजेश्वर वशिष्ठ जी की 'जानकी के लिए', 'उर्मिला' और 'याज्ञसेनी' तक पहुँची। तो बात रस्किन बॉन्ड , खुशवंत सिंह और शोभा डे तक गई।
एक महसूसा हुआ दर्द और एक भोगा हुआ दर्द समझाते कवि सुरेंद्र शर्मा जी ने कई ख्यातनाम कवियों को और उनकी कृतियों को याद किया। राजस्थान के भी कई हास्य कवि व व्यंगकारों का जिक्र हुआ।
इस बीच रिसोर्ट 'आपनो राजस्थान' के मालिक चौधरी जी भी आ गए ।
" सर, एक दिन और रुक जाते तो रणथम्बोर अभ्यारण भी देखना हो जाता। "
" बंगलौर डर्बी रेस में इसलिए नहीं गया कि आज तक कोई घोडा किसी कवी सम्मलेन में मेरी कविता सुनने नहीं आया। अब अपने पेशे का इतना सम्मान तो रखना ही होता है !"
पूछने पर ही सुरेंद्र शर्मा जी ने पद्मश्री से सम्मानित होने की बात बताई।
"और किताबें ?"
" चार वर्षों दैनिक भास्कर में जो कॉलम लिखता था उन्हीं के तीन संकलन आये। वैसे इकठ्ठा करते तो ३५-४० किताबें तो आ ही जाएँगी। " उनके कहने के तरीका तो हमें हंसाता हैं मग़र चेहरा हमेशा धीर गंभीर।
" ऐसा है कविता , जिस बात के तोड़ने से हास्य रस बनता है उसी के तोड़ने पर करुणा रस भी बनता है। "
मैं समझ रही थी क्यों हँसी के फव्वारों के बीच कभी कभी कोई चीज भीतर तक चुभती है।
माहौल इतना सहज था कि एक प्रश्न कुलबुलाने लगा।
"सर , जब हम जैसा आम इंसान किसी सेलेब्रिटी से मिलता है तो हमें कैसा लगता है दिगर बात। " थोड़ा संकोच के साथ मैंने पुछा ," अब जब हम इतने देर से बात कर रहे हैं, आपको हमसे मिलकर कैसा लगा ?"
"पद , प्रतिष्ठा , पैसा पैरों में रख कर आदमी हूँ आदमी से मिलता हूँ। "
और मेरे अंदर बहुत कुछ बदल गया। जो काम शिक्षा और किताबें नहीं कर पातीं , कोई कोई मुलाकात कर जाती है।
चूँकि मुझे और शिवानी को धीरज नहीं था हमने दो चार तस्वीरें अब तक क्लिक कर ली थीं। तभी घंटी बजी।
"सर मंच तैयार है , आप पधारें। "
कवी जब भीतर कमरे में जाकर लौटे , शिवानी ने कहा ,' सर आप तैयार हो गए हैं तो एक और तस्वीर ?"
"हाँ ! अब आप हैंडसम लग रहे हैं। " मेरे कहते ही बैठक ठहाकों से गूँज गया।
*-------------------*----------------------*-------------*
Post a Comment