Google+ Badge

Saturday, June 21, 2014

सोलह बरस की बाली उमर को.. ...                                                                        

' देख तो, ऋतेश का होगा !'
' मम्मी ! आपको कैसे पता चल जाता है किसका फ़ोन है ?'
'अरे ! ये तो श्रीकांत है ! हेलो बेटा ! कैसा है तू ? '
आंटीआपको एक बात बतानी थी !'     


उसके लहजे में पह्ले बसंत की कच्ची फुलवारी में खिली  पहली कली की महक रही थी मुझे !... 
 जिसकी किस्मत में ना खिलना लिखा था ना ही फलना !
 मगर फिर भी !                                                                               
 मैं उस कली को यों ही तो नहीँ कुचल सकती ना !                      
 मुशक़ को कब कोई मुठ्ठी कैद कर सकी कभी ?
       पह्ला बसंत है तो कभी पुरजोर बहार भी आएगी !.....               
                         

                                                                                            

'आंटी ss!'
' अभी फर्स्ट टर्म में क्या स्कोर रहा ?'
'78 % '
'सेकंड में 80% होने चाहिये !'
' जी आंटी ! '
'और उसके भी ! '
'जी आंटी ! थैंक्यू आंटी ! आप बहुत अच्छी हो ...'
'बस बस, फोन रखती हूँ '
'जी आंटी !'  

             - मुखर !  http://kavita-mukhar.blogspot.in
Post a Comment