Google+ Badge

Friday, February 28, 2014

अतुलनीय प्रेम

ये रिश्ते नाते मानव जनित हैं और बहुत ही खूबसूरत होता है हर रिश्ता. प्रेम के जितने रूप उतने ही रिश्ते ! 
मगर रिश्तों पर ऊँगली उठाना भी मानव प्रकृति ही है. वह भी क्या करे, मजबूर है अपनी मानसिक अवस्था से जो सींचित है परम्पराओं से, रूढ़ियों से...हर रिश्ते के साथ बांधे हुए अपेक्षाओं के बोझ से . और मुझे तो अन-अपेक्षित प्रेम अत्यधिक आकर्षित करता है. बिना रिश्ते के, बिना बंधन के, बिना कारन के ...एक दुसरे की ख़ुशी में मुस्कुराते होठ , दुसरे के लिए दुआ में उठे हाथ सबसे जुदा से और उत्तम मजहब से लगते हैं ! ईश्वर दीखता है उनमें ! 
घर में पालतू दो विभिन्न प्रजाति के प्राणियों में, जैसे की कुत्ते और बिल्ली में. गाय द्वारा असहाय बन्दर के बच्चे को दूध पिलाना और यहाँ तक की शेर द्वारा अपने 'शिकार' समान जीव को संरक्षण देना इत्यादि हमने कितनी ही बार अपने आस पास नहीं तो विभिन्न मीडिया श्रोतों में देखा है .  
क्या शिक्षा मिलती है इससे ? अरे शिक्षा को छोडिये मन में कैसे भाव आते हैं? हैं न अतुलनीय प्रेम ! रिश्तों से अपेक्षाओं की जलकुम्भी काटिए और हर रीती -रिवाज परम्पराओं पर प्रश्न चिन्ह लगाइए, प्रेम के कटोरे बन जायेंगे ये रिश्ते. 
रिश्तों के मोहताज प्रेम से इत
र देखिये प्रेम को ! यों ही नहीं कहा जाता - प्रेम ही ईश्वर है !
Post a Comment